in ,

गोवा में भाजपा सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरेगी, मगर विभाजित जनादेश के आसार

राज्यों के संग्राम पर तीसरे एबीपी न्यूज-सीवोटर ट्रैकर सर्वेक्षण के अनुसार, गोवा में अगले साल की शुरुआत में होने वाले चुनाव में भाजपा के 30 फीसदी वोट शेयर के साथ सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरने की उम्मीद है। आम आदमी पार्टी (आप) को 24 फीसदी वोट शेयर के साथ मुख्य विपक्षी दल होने का अनुमान है, जबकि पूर्व प्रमुख दावेदार कांग्रेस को 20 फीसदी वोट मिलने का अनुमान है। वोट शेयर से यह स्पष्ट है कि गोवा एक विभाजित जनादेश की ओर बढ़ रहा है जो सर्वेक्षण के अनुसार अंतत: त्रिशंकु विधानसभा का कारण बन सकता है।

वर्तमान अनुमान 13 नवंबर से 9 दिसंबर तक संभावित मतदाताओं सहित 18 प्लस वयस्कों के बीच आयोजित सीवोटर दैनिक ट्रैकिंग सर्वेक्षण पर आधारित है।

जहां तक कार्यप्रणाली और सर्वेक्षण के विवरण का सवाल है, सर्वेक्षण टीम पांच राज्यों (यूपी, पंजाब, उत्तराखंड, मणिपुर और गोवा) में लगभग 92,000 से ज्यादा व्यक्तियों तक पहुंची। यह सीएटीआई (टेलीफोनिक सर्वे) के माध्यम से आयोजित किया गया था। इसमें 3 से 5 प्रतिशत की त्रुटि का मार्जिन होने की भी उम्मीद है और जरूरी नहीं कि सभी मानदंडों में शामिल हो।

ट्रैकर के पहले दौर में, भाजपा को साधारण बहुमत हासिल होने का अनुमान था, लेकिन अंतिम हफ्तों में, उस बढ़त में गिरावट आई है। इस समय भाजपा को 19 सीटें मिलने का अनुमान है, जो 20 सीटों के आधे रास्ते से सिर्फ एक कदम पीछे है। आप को चौंकाने वाली बढ़त मिल सकती है और कांग्रेस के लिए अनुमानित 6 सीटों की तुलना में 7 सीटें जीतने की उम्मीद है।

सामान्य समय में, राज्य में सत्ता विरोधी लहर भाजपा की किस्मत को डुबोने के लिए पर्याप्त है। हालांकि, राज्य कांग्रेस की अक्षमता और आप की बेहतर नींव ने सत्ता विरोधी वोटों को विभाजित कर दिया है। इसने भाजपा को एक लाभप्रद स्थिति में धकेल दिया है।

इस परिदृश्य में किंगमेकर अन्य छोटे दल होंगे, जिनके इस समय 26 प्रतिशत वोट शेयर और 8 सीटें जीतने का अनुमान है। त्रिशंकु विधानसभा में पिछली विधानसभा की तरह सरकार का गठन आसान नहीं लगता।

भाजपा के मौजूदा मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत 29 प्रतिशत अनुमोदन के साथ गोवा के लोगों के बीच मुख्यमंत्री पद के लिए सबसे लोकप्रिय नेता हैं।

दूसरे स्थान पर आप के अज्ञात नेता ने 21 प्रतिशत अनुमोदन प्राप्त किया है। कांग्रेस के दिगंबर कामत 14 प्रतिशत अनुमोदन के साथ तीसरे सबसे लोकप्रिय नेता हैं। यह सवाल लाजिमी है कि यदि आप इस समय बिना चेहरे के अच्छा कर रही है, तो क्या उसे एक मजबूत नेता पेश करने से लाभ होगा?

बैंक डिपोजिट इंश्योरेंस कार्यक्रम में जमाकर्ताओं को संबोधित करेंगे पीएम नरेंद्र मोदी

जनरल रावत ने देश की सेनाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए कठोर मेहनत की : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी